बिजली घरों या इलेक्ट्रिक सब स्टेशनों में छाता ले जाने की अनुमति क्यों नहीं होती है ? : Why does not the permission to carry the umbrella in power homes or electric all stations ?

बिजली घरों या इलेक्ट्रिक सब स्टेशनों में छाता ले जाने की अनुमति क्यों नहीं होती है ?


दोस्तों , अगर आप कभी बिजली घरों में गए होंगे तो आपने नोटिस किया होगा कि यहां छाता ले जाने की अनुमति नहीं होती ।

क्या आपको पता है कि वहां छाता ले जाने की अनुमति क्यों नहीं दी जाती । आइए समझते हैं -


इसे समझने से पहले हमें एक और चीज समझना होगा । आपने यह जरूर अनुभव किया होगा कि आप जब भी किसी हाई वोल्टेज तार के नीचे से गुजरते हैं या खड़े होते हैं तब हाथों के रोए रोंगटे खड़े हो जाते है । जिसे इंग्लिश में goose bump effect भी कहते हैं । अब यह रोंगटे खड़े क्यों होते हैं ? रोंगटे खड़े इंडक्शन इफेक्ट के कारण होता है ।

आइए विस्तार से समझते हैं , होता यूं है कि हाई ट्रांसमिशन लाइन के तारों में तो वोल्टेज होता ही है पर उसके साथ-साथ उस हाई वोल्टेज तार के आसपास के हवा में भी कुछ ना कुछ  वोल्टेज उपस्थित रहता है । हाई वोल्टेज तार के पास की हवा में दूर के हवा के मुकाबले ज्यादा वोल्टेज होता है यानी वोल्टेज तार के समीप ज्यादा और जैसे-जैस तार से दूरी बढ़ती है वैसे-वैसे वोल्टेज की मात्रा घटती है । इस घटते -  बढ़ते मात्रा को पोटेंशियल ग्रेडियंट ( potential grading ) कहते हैं । और इसी पोटेंशियल ग्रेडियंट के कारण ट्रांसमिशन लाइन के वायर के आसपास के एयर में इलेक्ट्रिक फील्ड देखने को मिलता है ।

अगर मान लीजिए कोई व्यक्ति इस इलेक्ट्रिक फील्ड के रेंज में आ जाता है । इलेक्ट्रिकल फील्ड उस व्यक्ति के शरीर में एक चार्ज उत्पन्न करेगी और इसी चार्ज के कारण व्यक्ति का शरीर में खिंचाव उत्पन्न होगा चूँकि व्यक्ति का शरीर भारी होता है और हमारे शरीर के बाल यानी रोए हल्की होते हैं अतः वह ऊपर की ओर खींचते हैं ।

सेम ऐसे ही प्रक्रिया छाते के साथ भी होती है पर इसमें छाता नहीं खींचता । आपने देखा होगा कि छाते का हैंडल बार यहां तक कि ऊपरी हिस्सा भी लोहे जैसे धातु से बना होता है । ऐसे में जब हम किसी सब स्टेशन के किसी हाई वोल्टेज वाले तार के नीचे से छाता लेकर गुजरते हैं तो पोटेंशियल ग्रेडियंट के कारण उत्पन्न इलेक्ट्रिक फील्ड की वजह से छाते की ऊपरी हिस्सा यानी टिप्पी में चार्ज जमा होना शुरू हो जाता है और इसी उत्पन्न चार्ज के कारण व्यक्ति को इलेक्ट्रिक शॉक लगने का खतरा बढ़ जाता है । इसी कारण किसी भी बिजली घरों या सब स्टेशनों में छाते ले जाने की परमिशन नहीं होती है ।


Previous
Next Post »