सर्किट ब्रेकर ( circuit breaker ) क्या है ? सर्किट ब्रेकर कितने प्रकार के होते हैं ? MCB कितने प्रकार की होती है ? तथा कौन से MCB को किस काम मे उपयोग में लिया जाता है ?

सर्किट ब्रेकर ( circuit breaker ) क्या है ? सर्किट ब्रेकर कितने प्रकार के होते हैं ? MCB कितने प्रकार की होती है ? तथा कौन से MCB को किस काम मे उपयोग में लिया जाता है ?

( 1 ) MCB, ( 2 ) MCCB, ( 3 ) RCCB / ELCB
( 1 ) MCB, ( 2 ) MCCB, ( 3 ) RCCB / ELCB

दोस्तों सर्किट ब्रेकर एक तरह का डिवाइस है जो विद्युत के प्रवाह के अनुसार अपना कार्य करती है । जब किसी विद्युत परिपथ में विद्युत का स्तर एक मानक स्तर से अधिक हो जाता है तो ऐसे में इन सर्किट ब्रेकरों की मदद से इसे बीच में ही रोक दिया जाता है ताकि उस विद्युत परिपथ से लगे उपकरणों की सुरक्षा हो सके । सर्किट ब्रेकर्स उपकरणों के सुरक्षा के साथ-साथ बिजली से स्वम की सुरक्षा के लिए भी उपयोग में लाये जाते हैं ।

■ सर्किट ब्रेकर्स ( circuit breakers ) कितने प्रकार के होते हैं ?

दोस्तों सर्किट ब्रेकर्स मुख्यतः 3 तरह के होते हैं -

  • ( 1 ) MCB ( Miniature circuit Breaker )
  • ( 2 ) MCCB ( Molded Case Circuit Breaker )
  • ( 3 ) RCCB / ELCB ( Residual Current Circuit Breaker / Earth Leakage Circuit Breaker )

चलिए दोस्तों पहले हम बात करते हैं MCB यानी कि Miniature circuit Breaker के बारे में , दोस्तों MCB का उपयोग हम अपने घरों में बिजली से चलने वाले उपकरण के सुरक्षा के लिए करते हैं । 

MCB से मुख्यतः दो प्रकार की सुरक्षा हमे मिलती है । पहला ओवरलोड ( over-load ) और दूसरा है शॉर्ट सर्किट ( short circuit ) । और यह MCB अधिकत्तम 63 एंपियर तक ही आती है ।

आइए दोस्तों अब हम जानते हैं कि यह हमें ओवरलोड और शॉर्ट सर्किट से सुरक्षा किस प्रकार प्रदान करती है -

उदाहरण के लिए हम एक मोटर को लेते हैं । कोई मोटर जो कि सामान्य स्थिति में 10 एंपियर का करंट लेती है परंतु किसी कारणवश अगर मोटर जाम हो जाए और धीरे-धीरे चलने लगे तो ऐसी स्थिति में मोटर ज्यादा करंट का उपयोग करेगी, ज्यादा करंट यानी ज्यादा एंपियर । 

मान लीजिए मोटर 10 एंपियर की जगह 20 या 25 एंपियर करंट ले रही हो तो ऐसे में अगर हमने अपने मोटर से MCB को कनेक्ट कर रखा है तो करंट में आए इस बदलाव को MCB सेंस कर मोटर का पावर कट कर देगी यानी ट्रिप हो जाएगी । यही स्थिति ओवरलोड की स्थिति है जिससे MCB हमें सुरक्षा प्रदान करती है । 

अब MCB के दूसरी सुरक्षा का बात कर लेते हैं । यानी कि शॉर्ट सर्किट की । 

दोस्तों कभी-कभार हमारे घर की वायरिंग के तार आपस में शॉर्ट हो जाते हैं , ऐसी स्थिति में शार्ट सर्किट की वजह से हमारे घरो के कनेक्शन में हाई वोल्टेज करंट जाना शुरू हो जाता है । जिससे हमारे उपकरण जल या खराब हो सकते हैं , तो ऐसे में MCB विद्युत कनेक्शन को बंद कर हमारे उपकरणों की सुरक्षा करता है ।

दोस्तों MCB मे भी अलग-अलग नंबर और टाइप के MCB आते हैं , जो कि अलग-अलग क्षमता के अनुसार अलग-अलग कामों के लिए बनाए गए हैं । 

■ अगला प्रश्न यही आता है कि MCB कितने टाइप की आती है ?

दोस्तों MCB मुख्यतः 5 type की आती है -
MCB के प्रकार
B, C, D, K, Z type MCB

1. B type

2. C type

3. D type

4. K type

5. Z type

यह MCB के types हमें बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है, जैसे करंट का मान कितना गुना होने पर कितने समय में MCB ट्रिप होगा, इसकी जानकारी मिलती है । नीचे दिए गए सारणी की मदद से आप यह समझ सकते हैं कि कौन-कौन से टाइप की MCB कितने गुने करंट में कितने समय में ट्रिप होती है ।

दोस्तों आपको MCB में इन अक्षरों के अलावा कुछ नंबर भी देखने को मिल जाते हैं आखिर इन नंबरों का क्या अर्थ है आइए इसे एक उदाहरण है समझते हैं

उदाहरण के लिए हम यहां एक ही C - type के MCB की चर्चा करते हैं । मान लीजिए हमारे पास कोई C - type का कोई MCB है जिस पर C10 लिखा हुआ है । यहां यह समझने वाली बात है कि आखिर 10 नंबर क्यों लिखा है । दोस्तों इस 10 नंबर का मतलब 10 एंपियर से है । अगर हम सारणी में देखें तो C - type के MCB में दिए गए एंपियर से 5 से 10 गुना अधिक यानी कि करंट 50 से 100 एम्पियर होने पर 0.04 से लेकर 5 सेकेंड के अंदर ट्रिप होता है ।

तथा उसके साथ ही हम MCB में और नीचे देखे तो हमें 10000 और 3 नंबर भी एक छोटे से बॉक्स के अंदर लिखा हुआ दिखता है यह नंबर हमें शॉर्ट सर्किट के दौरान उत्पन्न हुए अधिकतम हाई करंट की वैल्यू से सुरक्षा बताता है । बगल में लिखे गए 3 का मतलब सेकंड को दर्शाता है इसका मतलब यह हुआ कि जब भी कभी शार्ट सर्किट की वजह से उत्पन्न हुए हाई करंट जो कि 10000 एंपियर से नीचे हो तब MCB 3 सेकेंड के अंदर ट्रिप हो जाएगी ।

■ चलिए दोस्तों अब जानते हैं कि किस - किस टाइप की MCB किस कार्य में और कहां - कहां उपयोग में लाई जाती है ?

B type - 

इस टाइप के MCB का उपयोग हमारे घरों के उपकरणों के सेफ्टी के लिए किया जाता है । जैसे - कूलर, फ्रिज, पंखा, टीवी इत्यादि ।

C type - 

इस टाइप के MCB का उपयोग ज्यादातर इंडक्टिव लोड में किया जाता है । जैसे - मोटर इत्यादि ।  अगर कभी इमरजेंसी के दौरान हमें B type कि MCB ना मिले तो हम C type के MCB का भी उपयोग अपने घरों के उपकरणों की सुरक्षा में कर सकते हैं । परंतु घरों के लिए ज्यादा बेहतर B type ही सबसे बेहतर होती है ।

D type - 

इस MCB का इस्तेमाल अधिकतर हैवी मशीनों की सुरक्षा के लिए की जाती है । जैसे - वेल्डिंग मशीन, एक्स रे मशीन इत्यादि ।

K type - 

यह MCB सेंसिटिव MCB होती हैं यानी कि इनमें हल्की सी भी करंट ज्यादा हो जाए तो यह ट्रिप कर जाती हैं । इनका उपयोग सेमीकंडक्टर डिवाइस में की जाती है । जैसे - ट्रांजिस्टर, बैटरी चार्जर इत्यादि में इसका उपयोग किया जाता है ।

Z type - 

यह MCB, K type MCB से भी ज्यादा सेंसिटिव है । इसका उपयोग भी ज्यादातर सेमी कंडक्टर डिवाइसों में किया जाता है ।

■ दूसरा सर्किट ब्रेकर है RCCB - 

दोस्तों यह सर्किट ब्रेकर भी बिल्कुल MCB की तरह ही है इसमें सुरक्षा भी बिल्कुल MCB जैसा ही मिलता है । यह ज्यादा एंपियर करंट लेने वाली उपकरणों की सुरक्षा के लिए होता है जो अधिकतर उद्योगों तथा बड़े-बड़े कंपनियों में उपयोग किए जाते हैं, 

MCCB 100 एंपियर से लेकर 1000 एंपियर तक होते हैं । MCB से अंतर के नाम पर इसमें अंतर सिर्फ इतना होता है कि इसमें एक करंट अर्जेस्ट करने के लिए एक रेगुलेटर दिया हुआ होता है तथा इसके साथ ही ट्रिप को टेस्ट करने के लिए इसमें ट्रिप बटन भी होता है ।

■ तीसरा प्रकार का सर्किट ब्रेकर है RCCB या ELCB - 

इस प्रकार के सर्किट ब्रेकर का उपयोग हम अपनी खुद की सुरक्षा के लिए उपयोग में लाते हैं । यह हमें लीकेज करंट से सुरक्षा प्रदान करता है । RCCB / ELCB केवल 63 एंपियर तक की आती है । अगर हम इसके बनावट की बात करें तो इसमें भी MCCB की तरह ही एक ट्रिप टेस्ट बटन होता है पर यह RCCB / ELCB के इनपुट फेज न्यूटल कनेक्शन के बाद ही टेस्ट किया जा सकता है । बंद कंडीशन में इसके ट्रिप बटन से ट्रिप को टेस्ट नहीं किया जा सकता ।


Previous
Next Post »