watt, volt और ampere आखिर है क्या ? ये हमारे लिए किस प्रकार उपयोगी हैं ?

watt, volt और ampere आखिर है क्या ? ये हमारे लिए किस प्रकार उपयोगी हैं ?

what is Watt, Ampere, Volt ?
what is Watt, Ampere, Volt ?

दोस्तों आप सभी बिजली से चलने वाले उपकरणों का उपयोग तो करते ही होंगे, पर आपने कभी गौर किया है कि इन उपकरणों पर कुछ अंक लिखे होते हैं , जो उपकरण की क्षमता, बिजली खपत जैसे महत्वपूर्ण जानकारी हमें बताते हैं । जी दोस्तों मैं बात कर रहा हूं वॉट ( W ), वोल्ट ( V ) तथा एंपियर ( I ) की ।

चलिए दोस्तों आज हम जानते हैं कि आखिर यें क्या है ? और इनसे हमें क्या जानकारियां मिलती हैं ?

सबसे पहले मैं आपको यह बता दूं कि वॉट, वोल्ट और एम्पियर एक यूनिट ( इकाई ) है । जैसे किसी वस्तु को तोलने के लिए किलोग्राम ( kg ) यूनिट है । उसी प्रकार बिजली यानी इलेक्ट्रिसिटी को मापने के लिए भी वॉट, वोल्ट तथा एंपियर यूनिट है ।

■ चलिए सबसे पहले हम वोल्ट ( V ) को समझते हैं -

अगर हम वोल्ट की बात करें तो वोल्ट एक फ़ोर्स है जो इलेक्ट्रिसिटी में मौजूद इलेक्ट्रॉनों को धक्का देता है जिससे की वह आगे की ओर चल पाते हैं इसे आप एक उदाहरण से समझ सकते हैं जैसे मान लीजिए कोई एक रेत से भरा कोई बोरी घर के बाहर पड़ा है तो आप उसे घर के अंदर लाने के लिए क्या करेंगे ? 

जाहिर सी बात है कि आप इसे खींच कर घर के अंदर लाएंगे , बस यही काम करता है हमारा फोर्स । खींचने के लिए आप रेत की बोरी पर फोर्स अप्लाई करेंगे जिससे कि वह आगे की ओर बढ़ सके । अब आप रेत की जगह करंट( इलेक्ट्रॉन ) की कल्पना करें और उसे खींचने वाली फोर्स की जगह आप वोल्ट को रखें । बस इसी प्रकार किसी बिजली के तार में उपस्थित करंट को वोल्ट फ़ोर्स लगा के आगे बढ़ने में मदद करता है ।

■ अब समझते हैं आखिरकार यह एंपियर ( I ) क्या है ? वोल्ट ( V ) के साथ इसका क्या संबंध है ?

दरअसल दोस्तों एंपियर विद्युत धारा में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या को दर्शाता है । इसकी गणना प्रति सेकंड के हिसाब से की जाती है । जैसे अगर हम 1 एंपियर की बात करें तो 1 एंपियर में करीब 6.25 × 1018 यानी की करीब 6.25000000000000000000 इलेक्ट्रॉन प्रति सेकंड गति करते हैं । इससे सीधा - सीधा आप यह समझे कि किसी विद्युत धारा में जितने ज्यादा इलेक्ट्रॉनों की संख्या होगी उसका एंपियर उतना ही ज्यादा होगा, 

और इन्ही इलेक्ट्रॉनों को आगे बढ़ाने के लिए जरूरी फोर्स देता है वोल्ट । अगर किसी विद्युत धारा में वोल्ट ही ना हो तो उस विद्युत धारा में इलेक्ट्रॉनों की संख्या कितनी भी हो, यानी कि एंपियर कितना भी हो वह किसी काम का नहीं । इसीलिए किसी उपकरण को चलाने के लिए एंपियर के साथ-साथ वोल्ट की भी आवश्यकता होती है । बिना वोल्ट के कुछ पॉसिबल नहीं है ।

■ अब समझते हैं वॉट ( W ) क्या है ?

दोस्तों वॉट हमें किसी भी उपकरण के शक्ति को दर्शाती है । जैसे कि आपने किसी मोटर में लिखा देखा होगा कि यह मोटर 1000W का है या मोटर 2000W का है । उसी प्रकार आपने बल्बों वगैरह में भी यह वाट लिखा देखा होगा जैसे 100W, 200W, 500W, 1000W इत्यादि । यह वॉट हमें उस चीज की पावर और विद्युत खपत के बारे में बताती है । वॉट हमेशा वोल्ट और एंपियर का गुणनफल होता है ।

  • W = V × I

लेकिन यह केवल DC करंट के लिए है । अगर आपको AC करंट में वाट निकालना है तो वोल्ट और एंपियर के साथ आपको पावर फैक्टर ( P ) का भी गुणा करना होगा ।

  • W = V × I × P 
  • W = V × I × 0.8 ( P = 0.8 )

इसे आप एक उदाहरण से अच्छी तरह समझ सकते हैं ( यह उदाहरण DC करन्ट के लिए है ) मान लीजिए आपके पास कोई मोबाइल का चार्जर है जिसका एंपियर 5 है तथा आउटपुट वोल्ट 10 है ।  तो ऐसे में अगर आप इसका वॉट जानना चाहते हैं तो सूत्र के मुताबिक आप वोल्ट और एंपियर का गुणा कर दें । जैसे - 

  • W = 10 × 5
  • W = 50

अर्थात वह चार्जर 50w का होगा ।

तो दोस्तों अब आप समझ गए होंगे कि वॉट, वोल्ट, एंपियर क्या होते हैं और इनमें मुख्य अंतर क्या हैं । दोस्तों हमने आपको सरल से सरल शब्दों में पूरी चीज समझाने की कोशिश की है, अगर फिर भी आपके मन में किसी प्रकार का कोई डाउट हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं । धन्यवाद ।


Previous
Next Post »